बिटकॉइन के खिलाफ क्रैकडाउन

बिटकॉइन के खिलाफ क्रैकडाउन

बिटकॉइन के लिए बढ़ती हुई सनक, एक क्रिप्टोकुर्जेसी जिसका मूल्य एक चौंकाने वाली ऊंचाई पर है, सरकार के लेंस के तहत आ गई है

सरकार ने इस अनियमित वर्चुअल मुद्रा के गैरकानूनी उपयोगों पर एक दमन शुरू कर दिया है

बिटकॉइन निवेश और व्यापार में इसकी जांच को वृहद्  करते हुए, आयकर विभाग (आईटी) विभाग देश भर में 4-5 लाख उच्च नेटवर्थ व्यक्तियों (एचएनआई) को नोटिस जारी करने जा रहा है जो इस अनियमित वर्चुअल मुद्रा के एक्सचेंजों पर व्यापार कर रहे थे

बिटकॉइन के उपयोग से संबंधित चिंतायें  

बिट्कोइन पोंजी योजनाओं में छोटे निवेशकों को फ़साना या टैक्स से बचने का आसान तरीका हो सकता है

नियामक इसको लेकर इसलिए भी चिंतित हैं कि यह इसका उपयोग  अवैध गतिविधियों के लिए हो सकता है जैसे कि मनी लॉन्ड्रिंग और आतंक वित्तपोषण चिंताएं

कुछ गैरकानूनी संस्थाओं से भी उत्पन्न होती हैं जो अवैध धन-पूलिंग गतिविधियों-सामान्यतः पोंजी योजनाओं के नाम से जाने वाली – बिटकॉइन और अन्य प्रकारों में निवेश से बड़ी रकम के वादे के साथ-साथ ब्लॉकचैन, एक डिस्ट्रीब्यूटेड लेजर तकनीक के माध्यम से बनाई जाती हैं जिसमे प्रत्येक श्रृंखला के लिए कई हजार नोड्स के साथ बेहद जटिल एल्गोरिदम शामिल हैं

संदेह यह भी है कि कुछ स्कैमस्टर्स इस लहर का फायदा अपनी ‘ई-पोंजी ‘योजनाओं’ द्वारा बिटकॉइन के नाम से निवेशकों को ठगने में कर सकते हैं  

पृष्ठभूमि

हालांकि, नेपाल, बांग्लादेश, किर्गिस्तान जैसे कुछ देशों ने बिटकॉइन को भुगतान के साधन के रूप में अवैध और राज्य के कानून के उल्लंघन के रूप में घोषित किया है, परन्तु बहुत सारे देशों ने अभी इस पर कोई स्टैंड नहीं लिया है

दिसंबर 2013 में आरबीआई ने बिटकॉइन व अन्य वर्चुअल मुद्राओं के उपयोगकर्ता, धारकों और वर्चुअल मुद्राओं के व्यापारियों को सावधानी के साथ चेतावनी जारी की थी जिसमे बिटकॉइन व अन्य वर्चुअल मुद्राओं के संभावित वित्तीय, परिचालन और कानूनी, ग्राहक संरक्षण और सुरक्षा संबंधी जोखिमों के बारे में चेतावनी थी

बिटकॉइन  वर्तमान में भारत में अनियमित हैं भारत में बिटकॉइन और क्रिप्टोक्यूच्युप्स के लिए कोई विशिष्ट कानूनी ढांचा नहीं है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *