ओक्खी चक्रवात

ओक्खी चक्रवात

ओक्खी चक्रवात

तमिलनाडु के कन्याकुमारी जिले में केरल की सीमा के निकट बंगाल की खाड़ी में उत्पन्न गहरे अवसाद ने ओक्खी चक्रवात का रूप लिया  

ओक्खी नाम बांग्लादेश द्वारा दिया गया था जिसका बंगाली अर्थ ‘आंख’ है

विश्व मौसम विज्ञान संगठन (डब्लूएमओ) और संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक और सामाजिक आयोग के लिए एशिया और प्रशांत (ईएससीएपी) ने 2000 में उष्णकटिबंधीय चक्रवात नामकरण प्रणाली शुरू की 

उष्णकटिबंधीय चक्रवातों को भविष्यवाणी के संबंध में पूर्वानुमानियों और सामान्य जनता के बीच संचार की आसानी प्रदान करने के लिए नामित किया जाता है

दुनिया भर के चक्रवातों को 9 क्षेत्रों – उत्तरी अटलांटिक, पूर्वी उत्तरी प्रशांत, मध्य उत्तर प्रशांत, पश्चिमी उत्तर प्रशांत, उत्तरी हिंद महासागर, दक्षिण पश्चिम हिंद महासागर, ऑस्ट्रेलियाई, दक्षिणी प्रशांत, दक्षिण अटलांटिक द्वारा नामित किया गया है 

उत्तरी हिंद महासागर बेसिन में चक्रवात भारतीय मौसम विज्ञान विभाग द्वारा नामित किया जाता है और पहला उष्णकटिबंधीय चक्रवात 2004 में ओएनिल (बांग्लादेश द्वारा दिया गया) के रूप में नामित किया गया था 

आठ उत्तरी हिंद महासागरीय देशों – बांग्लादेश, भारत, मालदीव, म्यांमार, ओमान, पाकिस्तान, श्रीलंका और थाईलैंड प्रत्येक ने आठ-आठ नाम दिए, जिससे 64 नामों की सूची बनी. चक्रवातों के नाम के लिए प्रत्येक देश से एक नाम चुना गया है 

पिछला तूफान मोरा  मई में पूर्वोत्तर भारत में भारी बाढ़ का कारण था, यह थाईलैंड के द्वारा दिए नाम पर रखा गया था मोरा हीलिंग पत्थरों में से एक का नाम है और इसका मतलब समुद्र का तारा भी है  

अगले चक्रवात का नाम सागर रखा जाएगा – जो भारत द्वारा दिया गया नाम है