राष्ट्रीय पोषण मिशन

राष्ट्रीय पोषण मिशन

मंत्रिमंडल ने कुपोषण और अल्प विकसितता पर लगाम लगाने के लिए राष्ट्रीय पोषण मिशन (एनएनएम) की स्थापना 9.046.17 करोड़ रूपए के तीन साल के बजट के साथ मंजूरी दी है

राष्ट्रीय पोषण मिशन तीन पहलुओं को संबोधित करेगी-अल्पविकसितता,एनीमिया और जन्म के समय अल्प भार पर लगाम लगाने के लिए पर्याप्त भोजन; इसके लिए आवश्यक डिलीवरी सिस्टम; और पूरी प्रक्रिया की निगरानी व्यवस्था

इस मिशन में आईसीटी (सूचना और संचार प्रौद्योगिकी) जैसे कई घटकों को शामिल किया जाएगा जैसे – वास्तविक समय निगरानी प्रणाली, राज्यों और संघ राज्य क्षेत्रों को उनके लक्ष्यों के प्रति प्रोत्साहित करना, सामाजिक लेखा-परीक्षा और पोषण संसाधन केन्द्रों की स्थापना

राष्ट्रीय पोषण मिशन के तहत, महिला और बाल विकास मंत्रालय , स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, पानी और स्वच्छता मंत्रालय के साथ मिलकर काम करेंगे

मिशन एक शीर्ष निकाय का निर्माण करेगा जो सभी मंत्रालयों में पोषण-संबंधित योजनाओं को लक्षित करेगा और मॉनिटर, पर्यवेक्षण और मार्गदर्शन करेगा

यह कार्यक्रम चरणबद्ध तरीके से किया जाएगा, जिसमें 2017-18 में  315 जिलों को कवर किया जाएगा, 2018-19 में 235 जिलों और शेष जिलों में 2019-20 में लागु होगा राष्ट्रीय पोषण मिशन बुनियादी उपकरण के रूप में सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग कर लागू किया जाएगा; दैनिक गतिविधियों को मॉनिटर करने और रिपोर्टों को संकलित करने के लिए आंगनवाड़ी (महिला और बाल विकास केंद्र) में कार्यकर्ताओं को स्मार्टफोन दिए जायेंगे जिससे रजिस्टरों को बनाए रखने के पुराने तरीके से निजात मिलेगी और चोरी को कम करने में भी मदद मिलेगी

भारत में पोषण में निवेश करना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि संतुलित आहार और स्वस्थ पोषण महिलाओं और बच्चों के समग्र विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, इसलिए, देश में पोषण की समस्या से निपटने के लिए, विभिन्न मंत्रालयों को अभिसरण में काम करना चाहिए और राष्ट्रीय पोषण मिशन ऐसा करने के लिए एक मंच होगा .एनएनएम अभिसरण को सुनिश्चित करेगा और बेहतर परिणाम देगा

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *